Wednesday, 31 January 2018

मेरा यू  खिड़की से बाहर झाँकना
बगीचे में उस नन्हें पौधे का यूँ इतराना
पकड़ ली जिद उसने भी
है उसे फलक तक जाना।
अभी अभी जन्मा वो पौधा
लथ पथ मिट्टी से ढका सना
जश्न क्यारियां मना रहीं थी
गा रही थी सुंदर गाना।
बगल में फूली अलसायी सरसों
दे रही थी ताना बाना
देख क्षितिज से ये नजारा
सूर्य देव का शरमा के छुप जाना।
दृश्य बड़ा मनभावन है ये
महक रहा है पूरा आंगन
लहराया है बाग खुशी से
मानो लौट आया इसमें सावन।।
@neel
#नीलम_रावत

Neelam Rawat. Powered by Blogger.

घाटियों की गूंज . 2017 Copyright. All rights reserved. Designed by Blogger Template | Free Blogger Templates