Search

मैं मन की विस्मृति जैसे

मैं मन की हूँ विस्मृति जैसे
तू दिया पुरानी यादों  का
मैं तुलसी किसी आंगन की
तू फूल महकते बागों का
मैं समा कोई बुझी बुझी सी
तू जलता जैसे चिरागों सा
में अलसायी शाम कहीं की
तू जेठ की दोपहरों  सा
मैं विरह की ज्वाला जैसी
तू मधुर श्रृंगारी रागों सा
मैं तुझमें कल बिताऊँ अपना
तू रहना मुझमें सदा आज सा
जन्म जन्म की गांठ हो जिनमें
बांधू तुझे रिश्तों के उन धागों सा

नीलम रावत

Post a Comment

0 Comments

Close Menu