दिल धड़कन

समंदर को समंदर का किनारा मिल गया होता
मुसाफिर को राहों का सहारा मिल गया होता
जां कुर्बान कर देते जिन्द तेरे नाम कर देते,
अगर दिल को धड़कन का इशारा मिल गया होता।।

No comments:

Post a Comment