आओ कभी पहाड़ों में

आओ कभी पहाड़ों में हरे भरे बुग्यालों में
आओ इन शांत घाटियों में इन पहाड़ी ढालों में
फेफड़े सिकुड़ते जा रहे हैं सांस सांस थम रही है
क्यों फंसे हो तुम पश्चात्यता के घोर अंतर्जालों में।।

तुम रूबरू हो जाओ इन पहाड़ी बोलियों से
मिलों  खानाबदोश चरवाहों की टोलियों से
रंग लग जायेगा तुम्हे जब पहाड़ी फागुन का
निःसन्देह होगी नफरत तुम्हें गुलाली होलियों से।।

विशुद्ध हवाओं से हुआ हर मौसम मतवाला है
डाल डाल पे बैठा हर पँछी का गान निराला है
भूल जाओ वो मंदिर मस्जिद की लड़ाई
यहाँ हर बन्दा खुदा का है और हर पत्थर शिवाला है।।

1 Comments

  1. Others search for patterns within the earlier 10 or more rounds, figuring it'll affect what occurs next. So, a Banker wager is all the time the best way|one of the 1xbet only ways|the easiest way} to cut back} the house edge. The 1 Cent, 25 Cent and $25 slot machines all saw declines for the month.

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a Comment

Previous Post Next Post