Search

Muktak | मुक्तक







सब  कुछ  मिलता  मगर तुम्हारे होने  की शौहरत  नहीं मिलती
विरह मिलता  है बे हिसाब मगर इश्क की  दौलत नहीं मिलती 
यूँ     तो     उलझने     मुझमें      मेरी      ही    कम     नहीं    हैं
तुम्हारे   ख्यालों   से  अब  मगर  मुझे   फुरसत  नहीं  मिलती !!
       
                                                                        -------

   क्या   खता  है  हमारी   कि  मारे   मारे  हो गए 
   इश्क   की    राहों   में   दिल   के   हारे  हो  गए 
  यूँ  तो  हम   कभी   खुद   से  भी   मिलते   नहीं 
                                                  तुमसे  नजरे क्या मिली की  हम तुम्हारे हो गए !!



Post a Comment

3 Comments

Close Menu