Tuesday, 6 October 2020







सब  कुछ  मिलता  मगर तुम्हारे होने  की शौहरत  नहीं मिलती
विरह मिलता  है बे हिसाब मगर इश्क की  दौलत नहीं मिलती 
यूँ     तो     उलझने     मुझमें      मेरी      ही    कम     नहीं    हैं
तुम्हारे   ख्यालों   से  अब  मगर  मुझे   फुरसत  नहीं  मिलती !!
       
                                                                        -------

   क्या   खता  है  हमारी   कि  मारे   मारे  हो गए 
   इश्क   की    राहों   में   दिल   के   हारे  हो  गए 
  यूँ  तो  हम   कभी   खुद   से  भी   मिलते   नहीं 
                                                  तुमसे  नजरे क्या मिली की  हम तुम्हारे हो गए !!



3 comments

Neelam Rawat. Powered by Blogger.

घाटियों की गूंज . 2017 Copyright. All rights reserved. Designed by Blogger Template | Free Blogger Templates